Package Finder

All (0)

डेटासेंटर होस्टेड प्रॉक्सी

ये वो प्रॉक्सी होते हैं जो डेटासेंटर में सर्वर हार्डवेयर पर स्थित होते हैं। संपूर्ण रेंटल अवधि (जो एक महीना या उससे ज़्यादा होता है) के दौरान उनके IP में कोई बदलाव नहीं होता है। ये सबसे तेज़, स्थायी, और सस्ते प्रॉक्सी होते हैं। जहाँ तक डेटासेंटर होस्टेड प्रॉक्सी की बात आती है, प्रॉक्सी प्रदाता उस ट्रैफिक की मात्रा के लिए कोई शुल्क नहीं लेते जो प्रॉक्सी सेवा का प्रयोग करते समय ग्राहक उत्पन्न करता है। ग्राहक केवल उन IP पतों के लिए भुगतान करता है, जो उसे मिलते हैं। रेजिडेंशियल और मोबाइल प्रॉक्सी की तुलना में डेटासेंटर प्रॉक्सी का ट्रस्ट रेट थोड़ा कम होता है।

  • वर्जिन (जिसे पहले कभी इस्तेमाल नहीं किया गया) प्रॉक्सी
    यह नए IP पते वाला प्रॉक्सी होता है जिसे पहले कभी प्रॉक्सी सर्वर के रूप में इस्तेमाल नहीं किया गया है। टार्गेट वेबसाइट पर वर्जिन प्रॉक्सी के प्रतिबंधित होने की सबसे कम संभावना होती है और ये सभी डेटासेंटर होस्टेड प्रॉक्सी में से सबसे महंगे होते हैं।
  • प्राइवेट (या समर्पित) प्रॉक्सी
    यह ऐसे IP पते वाला प्रॉक्सी होता है जिसे पहले प्रॉक्सी के रूप में प्रयोग किया गया है। प्रयोग की संपूर्ण अवधि के दौरान इसे केवल एक प्रॉक्सी सेवा के ग्राहक द्वारा एक्सेस किया जा सकता है। वर्जिन प्रॉक्सी की तुलना में प्राइवेट प्रॉक्सी के टार्गेट वेबसाइट पर प्रतिबंधित होने की संभावना ज़्यादा होती है।
  • शेयर्ड (या अर्ध-समर्पित) प्रॉक्सी
    ऐसे प्रॉक्सी के IP पतों को एक ही समय पर प्रॉक्सी सेवा के कई ग्राहकों द्वारा इस्तेमाल किया जा सकता है। प्राइवेट प्रॉक्सी और वर्जिन प्रॉक्सी के IP पतों की तुलना में शेयर्ड प्रॉक्सी के IP पतों के टार्गेट वेबसाइट पर प्रतिबंधित होने की संभावना कहीं ज़्यादा होती है।
  • रोटेटिंग
    यह शेयर्ड प्रॉक्सी का एक प्रकार है, इसमें केवल यह अंतर होता है कि प्रयोगकर्ता एक निश्चित अवधि के बाद IP पते को बदल कर सकता है।

मोबाइल प्रॉक्सी

ये अलग-अलग देशों के मोबाइल ऑपरेटरों के सिम कार्ड के साथ LTE / 4G मोबाइल राउटर पर भौतिक रूप से स्थित प्रॉक्सी हैं, जिन्हें प्रॉक्सी प्रदाताओं द्वारा नियंत्रित किया जाता हैं। किसी विशेष प्रदाता द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं के आधार पर, प्रॉक्सी सेवा ग्राहक की IP बदलने की आवृत्ति कॉन्फ़िगर कर सकती है, एक विशिष्ट मोबाइल ऑपरेटर और भौगोलिक स्थान चुन सकती है। किसी विशेष मोबाइल प्रॉक्सी सेवा की शर्तों के आधार पर, प्रयोग किये गए ट्रैफिक वॉल्यूम के लिए ग्राहक से शुल्क लिया जा सकता है। GNAT तकनीक मोबाइल प्रॉक्सी को सभी प्रकार के प्रॉक्सी के बीच सबसे ज़्यादा ट्रस्ट रेट प्रदान करती है।

रेजिडेंशियल प्रॉक्सी

ये प्रॉक्सी लोगों के मोबाइल और फिक्स्ड डिवाइसों (पीसी/लैपटॉप, वाई-फाई राउटर और मोबाइल डिवाइस) पर भौतिक रूप से स्थित होते हैं। रेजिडेंशियल प्रॉक्सी की विशेषता यह है कि इसमें बहुत बड़ी संख्या में IP पते उपलब्ध होते हैं जो दुनिया भर में वितरित होते हैं। ऐसी सेवा का ग्राहक किसी विशेष शहर, स्टोरेज मीडिया डिवाइस के प्रकार, इंटरनेट प्रदाता आदि के अनुसार आवश्यक भौगोलिक स्थान को सही तरीके से कॉन्फ़िगर कर सकता है। अक्सर, रेजिडेंशियल प्रॉक्सी सेवा का ग्राहक प्राप्त IP पतों के लिए भुगतान नहीं करता, बल्कि प्रयोग किये गए ट्रैफिक वॉल्यूम के लिए भुगतान करता है। रेजिडेंशियल प्रॉक्सी का ट्रस्ट रेट काफी ज़्यादा हो सकता है। लेकिन इनकी कमजोरी यह है कि ये डेटासेंटर होस्टेड और मोबाइल प्रॉक्सी की तुलना में थोड़े कम स्थिर होते हैं।

  • रोटेटिंग (गतिशील) रेजिडेंशियल प्रॉक्सी
    ये गतिशील प्रॉक्सी होते हैं जिनमें IP पते की आवृत्ति कुछ सेकंड से कुछ मिनट में बदलती है या जब तक कोई प्रयोगकर्ता पेज रिफ्रेश नहीं करता। इस प्रॉक्सी सेवा का प्रयोगकर्ता वैकल्पिक रूप से स्टिकी IP सुविधा चुन सकता है, जब उसे ज़्यादा लम्बे समय के लिए वर्तमान IP पते की ज़रुरत होती है।
  • ISP (स्थिर) रेजिडेंशियल प्रॉक्सी
    ये डिफ़ॉल्ट रूप से स्थिर प्रॉक्सी हैं। हालाँकि, नियमानुसार, प्रयोगकर्ता ज़रुरत पड़ने पर वर्तमान IP पते को दूसरे में बदल सकता है।

जियो

RIPE रजिस्ट्री के अनुसार इस प्रॉक्सी-सर्वर का IP पता एक विशेष देश से जुड़ा होता है।

प्रोटोकॉल

यह इस प्रॉक्सी सर्वर द्वारा समर्थित प्रोटोकॉल है। प्रॉक्सी ख़रीदने से पहले, कृपया इस बात का ध्यान रखें कि आपका बॉट या अन्य एप्लीकेशन इस प्रोटोकॉल का समर्थन करते हों।

  • HTTPS
    यहाँ, हमारा मतलब HTTP और HTTPS दोनों से है।
  • SOCKS5
    इसका मतलब है कि एक प्रॉक्सी प्रदाता न केवल SOCKS5, बल्कि इसके पिछले संस्करणों SOCKS4 और SOCKS4a का भी समर्थन करता है।

प्रमाणीकरण

मुफ़्त प्रॉक्सी सर्वरों के विपरीत, इन प्रॉक्सी सर्वरों को प्रमाणीकरण की आवश्यकता होती है।

  • IP
    प्रॉक्सी प्रयोगकर्ता को उसके IP पते से प्रमाणित किया जाता है।
  • U/P
    प्रॉक्सी प्रयोगकर्ता को उसके प्रयोगकर्ता नाम और पासवर्ड से प्रमाणित किया जाता है।